जानिए SEO कितने प्रकार के होते है और Backlink क्या होता है | what is seo


 जानिए SEO कितने प्रकार  के होते है और Backlink क्या होता है | what is seo



इससे पहले हमने आपको जानकारी दी थी कि SEO क्या है, वहीं आज हम आपको SEO के प्रकार के बारें में बताने जा रहे है कि SEO के कितने प्रकार होते है। और Title Tag or Meta Description एक Artical के लिए क्यों जरुरी है, इससे SEO में क्या फर्क पड़ता है।

what is seo,seo,white hat seo,learn seo,seo training,seo tips,what is search engine optimization,seo tutorial,how to do seo,what is seo in hindi,on page seo,what is seo and how does it work,seo tutorial for beginners,black hat seo,seo for beginners,what can seo do,how does seo work,what is seo 2019,what is seo urdu,what is seo hindi,what is seo in urdu,tutorial seo
Seo kya hai


SEO basically दो प्रकार के होते हैं (1) on page seo और (2)off page seo



1- On page SEO

On page SEO के जरिये हम अपने वेबसाइट या ब्लॉग के अंदर ही कुछ ऐसे जरुरी changes करते हैं जिससे हमारा ब्लॉग का आर्टिकल या वेबसाइट गूगल के फर्स्ट पेज के फर्स्ट पोजीशन पर आ जाए। अब आपको बताते है ऐसे कौन-कौन से फैक्टर होते हैं जो हमे अपनी वेबसाइट के अंदर करने पड़ते हैं ताकि हमारी वेबसाइट SEO के मुताबिक बने।

ऐसे तो गूगल ने करीब 200 फैक्टर बताये हैं जिनको फॉलो करके आप अपनी वेबसाइट को गूगल के टॉप पर ला सकते हो। वहीं आज हम आपको कुछ बहुत महत्वपूर्ण और fundamental के फैक्टर बताएंगे जिनका प्रयोग आप अपनी वेबसाइट और ब्लॉग के लिए कर सकते है।


Also Read : Best SEO Service



Keyword

कीवर्ड वो शब्द होते हैं जिनका इस्तेमाल करके लोग गूगल पर अपने सवाल को सर्च करते हैं जैसे कोई गूगल पर सर्च करता है कि, एससीओ क्या होता है तो ये एक कीवर्ड होता है। जिसको सर्च करने के बाद हमारे सामने इस सवाल से रिलेटिड काफी लिंक खुल जाते है। अब इस कीवर्ड का प्रयोग जिस भी वेबसाइट के मालिक ने अपनी वेबसाइट पर अच्छे से किया होगा तो उसकी वेबसाइट गूगल के टॉप पर आएगी।

On page SEO में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है प्रॉपर कीवर्ड रिसर्च और फिर पोस्ट में सही जगह पर कीवर्ड का इस्तेमाल करना। On page SEO में हम अपने वेबसाइट या ब्लॉग की loading speed को कम करने का प्रयास करते हैं। इसके लिए हम पोस्ट पर इस्तेमाल होने वाले images को compress करते हैं और सिर्फ जरुरी plugin का ही इस्तेमाल करते हैं इसके साथ ही अपने वर्डप्रेस ब्लॉग से सारी खराब पड़ी files को remove कर सकते हैं। हमारी ब्लॉग की loading speed जितनी कम होगी हमारे chances उतने ज्यादा होंगे गूगल के फर्स्ट पेज पर रैंक होने के।


Title Tag or Meta Description

हमे अपने ब्लॉग पोस्ट के Title और मेटा डिस्क्रिप्शन में main कीवर्ड का इस्तेमाल करना होता है। टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन मै कीवर्ड इस्तेमाल करने के साथ-साथ उसे catcy भी बनाये ताकि लोग जब भी उसे गूगल की लिस्ट पर देखें तो उस पर क्लिक करें।

वहीं पोस्ट का url हमेशा छोटा रखें और अपने पोस्ट के main कीवर्ड का इस्तेमाल पोस्ट के URL में जरुर करें। इससे भी आपके पोस्ट को गूगल मे रैंक होने मे काफी हेल्प मिलती है या ये कह सकते हैं ये भी SEO का एक बहुत important factor है।


2- OFF page SEO

SEO का दूसरा प्रकार होता है OFF page SEO जिसमे आप अपने ब्लॉग को आउटसाइड तरीके से प्रमोट करते है। मतलब आप अपने ब्लॉग के अन्दर कुछ नहीं करते हो बल्कि अपने ब्लॉग के लिंक को बाकि ब्लॉग पर प्लेस करने का प्रयास करते हो और वो ऐसे ब्लॉग पर जो आपके टॉपिक से रिलेटेड होते हैं और उनकी value गूगल पर काफी अच्छी होती है। इस process को हम normally Backlink कहते हैं। Backlink भी on page SEO के बराबर ही महत्वपूर्ण होता है आपके ब्लॉग पोस्ट को गूगल पर फर्स्ट पेज पर रैंक कराने के लिए।


Backlink कब महत्पवूर्ण होता है

Backlink तब बहुत important हो जाता है जब आपने जिस टॉपिक के बारे मे पोस्ट लिखा उसी टॉपिक के बारे में already क्वालिटी पोस्ट गूगल पर मौजूद है तो इस केस मे गूगल के क्रॉलर उसी पोस्ट को ऊपर रैंक करते हैं जिनके पास Quality backlink होता है। 2019 में या इसके बाद भी अब हमे सिर्फ Quality backlink बनाने पर ही फोकस करना चहिये तभी हम गूगल के फर्स्ट पेज के फर्स्ट पोजीशन पर आ सकते हैं।

वहीं आप अगर अपने ब्लॉग से रिलेटेड पेज सभी सोशल मीडिया पर create करें और regularly वहां पर पोस्ट को शेयर करेंगे तो आपके followers increase होंगे। क्योंकि अब गूगल उन आर्टिकल को भी टॉप पर show करता हैं जिन्हें सोशल मीडिया पर अच्छा response मिलता है। अब आपको यह जानना है कि जो कीवर्ड आपने सेलेक्ट किया है उसका इस्तेमाल पोस्ट में कहां-कहां पर करना है ताकि आपकी पोस्ट को google के क्रॉलर समझ पाए की यह पोस्ट इस सवाल का जवाब दे रही है।


पोस्ट के यूआरएल जितना हो सके छोटा रखें

अपने पोस्ट के टाइटल में आपको अपने सेलेक्ट किये हुए कीवर्ड का इस्तेमाल जरुर करना है। अपने पोस्ट के यूआरएल को पहले तो जितना हो सके छोटा रखें और उसमे अपने main कीवर्ड का जरुर इस्तेमाल करें। जैसे आपने "SEO क्या है" कीवर्ड सेलेक्ट किया है तो आपका यूआरएल ऐसा होना चाहिए- "seo-kya-hai-hindi" ।


----------Read this----------

मेटा tag जो आपके पोस्ट के बारे में गूगल के सर्च रिजल्ट में जो टाइटल और यूआरएल के नीचे थोड़ा दो लाइन दिखाई देते हैं वो मेटा tag होता है। उसमे भी आपको अपने main कीवर्ड का इस्तेमाल करना है। अगर आप wordpress का इस्तेमाल करते हो तो आपको yoast SEO plugin इनस्टॉल करना है जिसकी मदद से आप अपने पोस्ट का मेटा टैग सेट कर सकते हो ये प्लगइन फ्री में भी है।


पोस्ट में हैडिंग का इस्तेमाल जरुर करें

पहली बात जब आप पोस्ट लिख रहे हो तो उसमे हैडिंग का इस्तेमाल जरुर करें ताकि लोगों को आसानी से समझ आ जाये की ये पैराग्राफ इस पोस्ट के इस पर्टिकुलर पार्ट के लिए है और अपने पहले हैडिंग में कीवर्ड का इस्तेमाल जरुर करें। इसके साथ-साथ अपने पोस्ट के फर्स्ट और लास्ट पैराग्राफ में भी अपने main कीवर्ड का इस्तेमाल जरुर करें। साथ ही कीवर्ड को पोस्ट की लेंथ के हिसाब से प्रयोग करें मतलब आपकी पोस्ट जितने भी words के हैं उसके हिसाब से सिर्फ 2% ही कीवर्ड का इस्तेमाल करें और कीवर्ड का प्रयोग relevant लगे जबरदस्ती उसको पोस्ट में डालने की कोशिश न करें।



पोस्ट इमेज में Alt टैग का इस्तेमाल करें

पोस्ट इमेज में Alt टैग का जरूर इस्तेमाल करें, क्योंकि आपने देखा ही होगा की गूगल में लिंक के अलावा इमेज सेक्शन भी होता है और अगर आपने अपनी पोस्ट इमेज में alt टैग का इस्तेमाल किया है और उसमे अपने main कीवर्ड का इस्तेमाल भी करें जिससे आपका पोस्ट की इमेज गूगल के इमेज सेक्शन में दिखाई देगा।

जब भी आप ब्लॉग बनाते हो तो आपको अपने ब्लॉग को google की लिस्ट में जरुर शामिल करना है तभी गूगल आपकी वेबसाइट को देख पायेगा जिसके लिए आपको Google Search console में रजिस्टर करके वहां पर अपने वेबसाइट को सबमिट करना है।


What is SEO, ab aapko pata chal hi gaya hoga ki seo kya hai aur kitne prakar ke hote hai.


Click here for home

Post a Comment

0 Comments