International tiger day | अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस या world tiger day कब मनाया जाता है


International tiger day | अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस या  world tiger day कब मनाया जाता है


प्रत्येक वर्ष 29 जुलाई को पूरे विश्व में world tiger day मनाया जाता है |

International tiger day, world tiger day
International tiger day


अवैध शिकार घरवालों के फटने के कारण world के कई countries में लाखों की संख्या में काफी गिरावट आई है इस दिवस को मनाने का उद्देश्य दुनिया भर में जंगली बाघों की मौत के कारणों पर विस्तार तथा उनकी स्थिति के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना है |

अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस का इतिहास ( History of international tiger day )


साल 2010 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग शहर में आयोजित भाग सम्मेलन में इस दिवस को मनाने का निर्णय लिया गया था इस सम्मेलन में 13 देशों के भाग लिया था और उन्होंने वर्ष 2022 तक ख्वाबों की संख्या में दोगुनी बढ़ोतरी का goal रखा था तब से प्रत्येक वर्ष 29 जुलाई को world tiger day में मनाया जाता है भारत सरकार ने tiger के संरक्षण के लिए वर्ष 1973 मैं project tiger की शुरुआत की थी वर्तमान में भारत में कुल 50 टाइगर रिजर्व और बफर क्षेत्र टाइगर रिजर्व केयर एंड बफर एरियाज wwff के अनुसार साल 2016 में tiger की आबादी वाले विश्व के 13 देशों में tiger की स्कूल संख्या 3948 थी वहीं भारत में बाघों की कुल संख्या 1706 भारत में tiger safety के लिए काफी सराहनीय कार्य किया है वर्ष 2006 में केवल 1411 थे | जो 2014 में बढ़कर 2226 हो गई है थे| india में प्रत्यक्ष 4 वर्ष बाद tiger की गणना की जाती है karnataka भारत का ऐसा राज्य है जिसमें बाघों की संख्या सबसे अधिक है|

वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड फॉर नेचर (wwf) क्या है?


World wildlife fund for nature एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन यह संगठन wild animal के संरक्षण के लिए कार्य करता है इसकी established 29 अप्रैल 1961 में की गई थी इस संगठन का उद्देश्य वन्य जीवों का संरक्षण तथा environment पर मानव के प्रभाव को काम करना है रवि रवि है वर्ष 1998 से हर 2 साल के उपरांत लिविंग प्लैनेट रिपोर्ट प्रकाशित करता है|

बाघों की मुख्य प्रजातियां ( Total types of tiger )


वर्तमान में बाघों की संख्या अपने न्यूनतम स्तर पर युवकों की कुछ प्रजातियां पहले ही विलुप्त हो चुकी है पूरी दुनिया में बाघों की कई तरह की प्रजातियां मिली है इनमें से 6 प्रजातियां मुख्य है |

1  साइबेरियन बाघ
2  बंगाल बाघ
3  इंडो चाइनीस बाघ
4  मलायम बाघ
5  सुमात्रा बाघ
6  साउथ चाइना बाघ शामिल है |

बंगाल टाइगर यार सेंड करो कि ग्रीस प्रकृति की सबसे सुंदर प्रजातियों में से याद किया हुआ परिवार की एक प्रजाति है और भारत बांग्लादेश नेपाल भूटान म्यांमार युवा दक्षिण तिब्बत के क्षेत्रों में पाई जाती है इसके छोरिया सुंदरता और बलशाली रुख को देखते हुए बंगाल टाइगर को भारत के राष्ट्रीय पशु में सम्मान से भी नवाजा गया है अन्य जीवों के अध्यक्ष आवाज को कि देखने और सुनने की शक्ति कही ज्यादा होती है |

इंडो चाइनीस बाघ : इंडो चाइनीस टाइगर बाघ की यह प्रजाति थाईलैंड कंबोडिया चीन वर्मा और वियतनाम देश को ही में पाई जाती है इस प्रजाति के बाघ पहाड़ों पर ही रहते हैं |

मलेशियन बाघ : बलिया टाइगर बाघ की प्रजाति मालियन प्रायद्वीप में पाई जाती है|

साइबेरिया बाघ : साइबेरिया टाइगर की प्रजाति साइबेरिया के सुदूर पूर्वी इलाके अमृतसर के जंगलों में पाई जाती है यह उत्तर कोरिया की सीमा के पास उत्तर पूर्वी चीन में हूं सुन नेसनल साइबेरियाई टाइगर नेचर रिजर्व में कुछ संख्या में है और इनकी कुल संख्या रूस के सुदूर पूर्व में भी पाई जाती है|

सुमत्रन बाघ : यह बाघ सिर्फ सुमात्रा Iceland में पाए जाते हैं साल 1998 में ही से एक विशिष्ट उप प्रजाति के रूप में सूचीबद्ध किया गया था यह प्रजाति भी भारत की लुप्तप्राय प्रजातियों में शामिल है|

साउथ चाइना बाघ :  क्या वह चाइना टाइगर इस प्रजाति के अंदर बाघों की लंबाई 230 से 260 centimeters और वजन लगभग 130 से 180 kilogram होता है|  वही मादा बाघ की लंबाई 220 से 240 centimeters और weight लगभग 100 से 110 kilograms होता है|

बाघों की आबादी में कमी में मुख्य कारण


वर्ष 1915 में tigers की कुल संख्या 100000 थी वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड और ग्लोबल टाइगर फोरम के 2016 के आंकड़ों के अनुसार पूरे विश्व में लगभग 6000 बाकी बचे है इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि पिछले 100 सालों में टाइगर की आबादी का लगभग 97% समाप्त हो चुकी है भारत उन देशों में शामिल है जिसमें बाघों की जनसंख्या सबसे अधिक है साल 2016 के आंकड़ों के अनुसार भारत में 3891 tiger है | भारत नेपाल रूस एवं उत्थान में पिछले कुछ समय से tiger की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है बाघ भारत का national animal है बाग देश की शक्ति शान सतर्कता बुद्धि व धीरज का प्रतीक है बाघ भारतीय उपमहाद्वीप का प्रतीक है और उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों को छोड़कर पूरे देश में पाया जाता है |


Post a Comment

0 Comments